ENGLISH HINDI Monday, April 12, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कर्नाटक: मई प्रथम सप्ताह तक हो सकते है कोविड-19 के मामले चरम पर: स्वास्थ्य मंत्रीजीवन रक्षक दवाओं पर अनिवार्य-लाइसेंस की मांग जिससे कि जेनेरिक उत्पादन होमहात्मा ज्योतिबा फुले: एक प्रासंगिक चिंतनजश्न मनाने बंद करो, कोटकपूरा केस अभी ख़त्म नहीं हुआ: कैप्टन का सुखबीर को जवाबबठिंडा-बरनाला मार्ग पर बंद पड़े राइस शैलर के अंदर से मिले बाहरी प्रांत की गेंहूं के डंप किए 5 हजार गट्टेअपराध साबित हो जाने पर भी सिर्फ अपराधी को सजा, पीड़ित को मुआवजा क्यों नही?पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से आने वाले लोगों को 72 घण्टे पहले की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट लानी जरूरीचंडीगढ़ में तीसरे इंडियन टैरो सम्मेलन का आयोजन
धर्म

गुरुद्वारा श्री नानकसर साहिब में 45वां गुरमति समागम पूरे धार्मिक भावना से संपन्न

March 07, 2021 10:01 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज

सैक्टर 28 स्थित गुरुद्वारा नानकसर साहिब में 45वां गुरमति समागम समारोह पूरे धार्मिक भावना से संपन्न हुआ। सुबह से ही संगत का आना आरंभ हो गया था, कीर्तन दरबार व दीवान सजा हुआ था, जिसमें देशभर के अलग-अलग राज्यों से आए जत्थों ने संगत को गुरबाणी और शब्दों से निहाल किया।

बाबा लक्खा सिंह ने श्रोताओं को शब्दों और गुरबाणी का महत्व समझाते हुए पंथ की राह पर चलने की अपील की। प्रत्येक साल की तरह इस साल भी रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया था, जिसमें रक्त दाताओं ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया और 50 यूनिट इकट्ठे हुए। रक्त इकट्ठा करने वाली यूनिट ने बताया कि समय और स्टाफ की कमी के चलते बहुत सारे रक्त दाताओं को वापस भेजना पड़ा।

सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालुओं ने गुरुद्वारा साहिब में माथा टेका, विश्व शांति और मानव कल्याण की बात करते हुए कोरोना से छुटकारा पाने की भी अरदास की। गौरतलब है कि सुबह से ही चाय, पकौड़े, बिस्कुट और लस्सी का लंगर चल रहा था। कुछ लोगों ने फल और आइसक्रीम भी बांटी जबकि दोपहर में संगत के लिए लंगर का भी प्रबंध था।

पकता नहीं है लंगर फिर भी छकती है संगत

नानकसर गुरुद्वारा के बारे में एक बात मशहूर है कि पकता नहीं है लंगर फिर भी छकती है संगत, डेरा प्रमुख बाबा गुरदेव सिंह, बाबा लक्खा सिंह और गुरुद्वारा साहिब के सेवादार मास्टर गुरचरण सिंह, मनजीत सिंह कलसी, हरनेक सिंह सेखों, अमर टैक्स के प्रवीण कुमार और लुधियाना से गुरप्रीत सिंह के साथ गाँव दड़वा से सेवादार धर्मेंद्र सैनी ने भी गुरुद्वारा साहिब में अपनी सेवाएं प्रदान कीं। डेरा प्रमुख बाबा गुरदेव सिंह ने समागम के सफलतापूर्वक समापन पर सारी संगत का आभार प्रकट करते हुए अगले वर्ष के लिए सारी संगत को आमंत्रित किया।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें