ENGLISH HINDI Thursday, September 16, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
तेल टैंकर बम से उड़ाने की कोशिश के मामले में 4 और व्यक्तियों की गिरफ़्तारी होने से राज्य में हाई अलर्ट के आदेशबैंकों को 1528 करोड़ रु. की कथित हानि पहुँचाने पर निजी कम्पनी एवं सीएमडी सहित अन्यों के विरुद्ध मामला दर्जश्राद्ध 20 सितंबर से 6 अक्तूबर तक परंतु 26 सितंबर को पितृपक्ष की तिथि नहींपश्चिम बंगाल में हुई हिंसा एवं अन्य अपराध मामलों में कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश पर एक अन्य मामला दर्जआयकर भवन में आयोजित किया निशुल्क चिकित्सा शिविरकोल ब्लॉक से सम्बन्धित कोयला घोटाला मामले में अदालत ने पॉच आरोपियों को दोषी ठहरायामोहाली एयर कार्गो कंपलैक्स नवंबर तक हो जायेगा चालू: मुख्य सचिवपराली की चारे के तौर पर प्रयोग करने के तरीके तलाशने सम्बन्धी आदेशों की सराहना
धर्म

जीवन में गुरु के महत्व को दर्शाता है गुरु पूर्णिमा का त्योहार........

July 22, 2021 09:23 AM

आचार्य ईश्वर चन्द्र शास्त्री

गुरु जी के ज्ञान व शिक्षा से ही हम जीवन के मूल्यों को समझ पाते हैं। गुरु जी हमें सही मायने में जीवन जीने की कला सिखाते हैं। जीवन के सभी क्षेत्रों में गुरु का होना अनिवार्य है। हमारे संतों ने तो गुरु को भगवान से भी बढ़कर माना है। संत कबीर जी ने कहा...

गुरु गोविन्द दोऊ खड़े, काके लागूं पाय। बलिहारी गुरु आपने, गोविन्द दियो बताय।

हम संसार में आते हैं तो माता-पिता ही हमारे प्रथम गुरु होते हैं, जो हमें अच्छे संस्कार व शिक्षा देते हैं। गुरु के अंदर वह शक्ति मौजूद होती है जो अपनी शक्ति के बल पर एक साधारण बालक को भी राजा बना सकता है। चाणक्य ने साधारण से बालक चंद्रगुप्त को राजा बना दिया।

गुरु पूर्णिमा 24 जुलाई 

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुर्गुरुर्देवो महेश्वरः ।
गुरुः साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः ॥

हमारी संस्कृति और शास्त्रों में गुरु पूर्णिमा का बहुत महत्व है। गुरु पूर्णिमा का पर्व भारत में बड़ी ही श्रद्धा और भक्तिभाव के साथ मनाया जाता है। इस दिन गुरुओं का सम्मान किया जाता है और उनका आशीर्वाद प्राप्त किया जाता है। शास्त्रों में भी गुरु की विशेष महिमा बताई गई है। गुरु शब्द का अगर हम संधि विच्छेद करें तो इसमें - 'गु' शब्द का अर्थ है अंधकार यानि अज्ञान और 'रु' शब्द का अर्थ है प्रकाश यानी ज्ञान। अर्थात् अज्ञान को नष्ट करने वाला जो ब्रह्म रूप प्रकाश है, वह ही गुरु है। इस संसार की संपूर्ण विद्याएं गुरु की कृपा से ही प्राप्त होती हैं और गुरु के आशीर्वाद से प्राप्त हुई विद्या सिद्ध और सफल होती है।

निम्नलिखित श्लोक में गुरु को ब्रह्मा -विष्णु -महेश मानकर प्रणाम किया गया है.......

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुर्गुरुर्देवो महेश्वरः ।
गुरुः साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः ॥
गुरु अपने शिष्य को एक नया जन्म देता है इसलिए गुरु ब्रह्मा है, गुरु अपने शिष्य की रक्षा एवं पालन करता है इसलिए गुरु विष्णु है। गुरु अपने शिष्य के सभी काम, क्रोध आदि विकारों को समूल नष्ट कर देता है इसलिए गुरु शिव है।

आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है इसे प्यास पूर्णिमा भी कहा जाता है। इसी दिन व्यास जी प्रकट हुए थे उन्होंने वेदों का विस्तार किया और 18 पुराणों की रचना की, इसीलिए व्यास जी को गुरु रूप में माना जाता है। गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु पूजा का विधान है अबकी बार गुरु पूर्णिमा 24 जुलाई को पड़ेगी, इस दिन सूर्योदय व्यापिनी पूर्णिमा प्रातः 8:10 बजे तक रहेगी।
*इस दिन ही गुरु पूजा करें, तुलसी व पीपल में घी के दिए जलाएं। ऐसा करने से लक्ष्मी की बढ़ोतरी होती है।

*जो छात्र अपनी पढ़ाई को लेकर चिंतित हैं, उन्हें गुरु पूर्णिमा के दिन गीता पाठ एवं गाय की सेवा करना चाहिए।

*यदि कारोबार में हानि हो रही है और आर्थिक मंदी से जूझ रहे हैं तो आज के दिन किसी जरूरतमंद व्यक्ति को पीले अनाज, पीले वस्त्र और पिली रंग की मिठाई दान करनी चाहिए।

*इस दिन केवल गुरु ही नहीं, अपितु माता-पिता, बड़ों का भी सम्मान करें।
गुरु पूर्णिमा के दिन ज्यादा से ज्यादा गुरुमंत्र या गायत्री मंत्र का जप करें। 
(आचार्य ईश्वर चन्द्र शास्त्री अध्यक्ष- देवालय पूजक परिषद् श्री खेड़ा शिव मंदिर सेक्टर 28 चण्डीगढ़)

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें
ईश्वर में आस्था रखने वाले भक्तजन संकटों से दूर रहते हैं: बाबा तजिंदर पाल सिंह गौड़ीय मठ में भगवान राधा माधव जी का झूलन यात्रा प्रारंभ आया सावन झूम के...... श्रीबालाजी महाराज की भजन संध्या की सोशल मीडिया पर लाइव प्रस्तुति आयोजित गुरुद्वारा श्री नानकसर साहिब में 45वां गुरमति समागम पूरे धार्मिक भावना से संपन्न ठाकुर जी के वार्षिक उत्सव की तैयारीयां जोरों पर नारी शक्ति के प्रेरणा स्त्रोत ब्रह्मा बाबा की 52वीं पुण्यतिथि आज संतानदायिनी माता अनसूया का दो दिवसीय मेला शुरू मानवता का महाकुंभ: 73वां वार्षिक संत निरंकारी समागम 5 दिसंबर से स्वामी अशीम देब गोविंद धाम सोसायटी ने गोवर्धन पूजा उत्सव मनाया