ENGLISH HINDI Wednesday, January 26, 2022
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
घूसखोरी मामले में दिल्ली पुलिस का निरीक्षक और दो अन्य कर्मी गिरफ़्तारअपराधिक पृष्टभूमि की जानकारी देने वाले फार्म नंबर 26 के बारे में निर्वाचन आयोग द्वारा स्पष्टीकरणनामांकन पत्र दाखि़ल करते समय उम्मीदवार संग दो व्यक्ति जा सकेंगे रिटर्निंग अधिकारी के कार्यालयसिद्धू पंजाब की सियासत के ड्रामा क्वीन: चड्ढाश्री काली माता मंदिर में बेअदबी की कोशिश करने वाले पर दर्ज हो 302 का मुकदमा: सिंगलाडेराबस्सी विधायक ने नहीं निभाई जिम्मेदारी:खन्नापंजाब किसान दल और इंसानियत लोक विकास पार्टी गठबंधन ने चुनाव लड़ने का किया ऐलानचुनाव आचार संहिता लागू होने के उपरांत पंजाब में 74.90 करोड़ रुपए की वस्तुएँ ज़ब्तः सीईओ
जीवन शैली

छोटी उम्र बड़ी उम्मीदें: फोर्थ पर्सपेक्टिव के साथ जीवन की खोज

September 03, 2021 09:02 AM

युवा एवं विलक्षण प्रतिभा की धनी जीना अरोड़ा ने फोर्थ पर्सपेक्टिव का उपयोग करते हुए बेजान वस्तुओं में जीवन खोजने की एक प्रेरक कहानी है इस किताब में

चंडीगढ़, फेस2न्यूज

दर्शनशास्त्र और दृष्टिकोण की शक्ति पर अपनी तरह के पहली दिलचस्प लेखन में, युवा एवं विलक्षण प्रतिभा की धनी 18 वर्षीय जीना अरोड़ा ने अपनी पलेठी लिखी किताब ‘द फोर्थ पर्सपेक्टिव’ शीर्षक के साथ जारी की है। इस पुस्तक का विमोचन वीरवार चंडीगढ़ गोल्फ क्लब में प्रख्यात शिक्षाविद् और दूरदर्शी डॉ. सुमेर बहादुर सिंह ने किया।

इस अवसर पर डॉ. सुमेर बहादुर सिंह ने जीना के लेखन कौशल की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने आसानी से समझ में आने वाली भाषा का किताब में उपयोग किया है। उनकी पुस्तक उनकी विचार प्रक्रिया में गहराई का परिणाम है और इस प्रकार उन्हें लेखन जारी रखना चाहिए इससे उनका मनोबल ओर ऊंचा बढ़ेगा।

अक्सर यह कहा जाता है कि हर चीज के तीन दृष्टिकोण होते हैं; एक जो तुम्हारा है, एक मेरा है, और एक जो पूर्ण दृष्टिकोण है और जीना अरोड़ा की यह किताब रेखांकित करती है कि जीना को ‘फोर्थ पर्सपेक्टिव’ के तौर पर क्या कहना पसंद है।

जीना का कहना है कि धरती पर मौजूद मूक व बेजान वस्तुओं के छिपे हुए गुणों के माध्यम से जो हम लगभग हर दिन अपने आस-पास देखते हैं, उनमें से प्रत्येक में एक अटूट सांत्वना या एक सुखद समाधान होता है, जिसे दोहण या प्राप्त करने की प्रतीक्षा की जाती है, और यही फोर्थ पर्सपेक्टिव को परिभाषित करता है। चौथे दृष्टिकोण की परिणति अंतत: में निहित है और आप कभी नहीं जानते कि वे किसी भेस में आपके उद्धारकर्ता के रूप में कब सेवा कर सकते हैं!

इस उत्कृष्ट कृति को लिखने के पीछे अपनी अलग विचारधारा का विस्तार करते हुए, जीना का कहना है कि ‘‘मैं वास्तव में कभी भी बायनेरिज़ को पूरी तरह से समझने में सक्षम नहीं रही। मेरा मतलब है, मैं उन्हें समझती हूं, मैं सही और गलत, अच्छे और बुरे, सकारात्मक और नकारात्मक, सच्चाई और झूठ या ना करने वाली चीजों और करने वाली चीजों के बीच के अंतर को समझती हूं और मुझे पता है कि उनका उद्देश्य क्या है और कौन सा है। लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि हर एक क्रिया, प्रतिक्रिया, वाक्य, भावना, विचार या विचार को इस या उस में विभाजित करने का हमारा प्रयास काफी हद तक व्यर्थ है।’’

उनका आगे कहना है कि ‘‘ऐसे में ये यह किताब उस समय के लिए है, जब आप अपने आस-पास जो कुछ भी हो रहा है या उसे काले या सफेद के रूप में वर्गीकृत करने में खुद को असमर्थ पाते हैं। यह तब होता है जब आप अपने आप को एक अस्पष्ट या धुंधले क्षेत्र में पाते हैं और जब आपको उस धुंधले क्षेत्र में आराम खोजने में सहायता की आवश्यकता होती है। मैं चाहती हूं कि आप कहीं भी और जब भी आपका मन करे उसमें गहरा गोता लगाने में सक्षम हों।’’

जीना का कहना है कि धरती पर मौजूद मूक व बेजान वस्तुओं के छिपे हुए गुणों के माध्यम से जो हम लगभग हर दिन अपने आस-पास देखते हैं, उनमें से प्रत्येक में एक अटूट सांत्वना या एक सुखद समाधान होता है, जिसे दोहण या प्राप्त करने की प्रतीक्षा की जाती है, और यही फोर्थ पर्सपेक्टिव को परिभाषित करता है। चौथे दृष्टिकोण की परिणति अंतत: में निहित है और आप कभी नहीं जानते कि वे किसी भेस में आपके उद्धारकर्ता के रूप में कब सेवा कर सकते हैं!

कौन है जीना अरोड़ा

18 वर्षीय जीना अरोड़ा किसी युवा कौतुक से कम नहीं हैं। उसने हाल ही में अपना स्कूल समाप्त किया है और मनोविज्ञान में ग्रेजुएशन करने के लिए वे इसी सितंबर में ब्रिटेन के बाथ में अपना कॉलेज शुरू करने वाली है। अगर कोई एक चीज है जिसके बारे में जीना तब से निश्चित है जबसे उसके पास पहली बार विचार आया था, वह एक ऐसे प्रोफेशन में शामिल हो रहा था जो उसे लोगों को ठीक करने की अनुमति देगा और इस तरह उसने मनोविज्ञान में अपनी जगह बनाने का फैसला किया। जबकि उसके नाम का अर्थ ‘जीने की क्रिया’ है, उसके प्रयास इस दुनिया को रहने के लिए एक बेहतर जगह बनाने में अपना हर संभव योगदान करते हैं!

एक लेखिका होने के साथ-साथ उन्हें एक बेहतरीन बरिस्ता होने पर भी गर्व है। अपनी मां के साथ एक कॉफी डेट और उनके पसंदीदा गीतों की प्लेलिस्ट दो चीजें हैं जिसके बिना वह एक दिन भी नहीं गुजारती है। यह आत्म-साक्षात्कार, जिद्दी और पूरी तरह से प्रतिभाशाली लडक़ी के पास अपने वर्षों से परे एक पुरानी आत्मा और ज्ञान है, और यह पुस्तक उसके अपने सार्वभौमिक रूप से आकर्षक दर्शन का अवतार है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और जीवन शैली ख़बरें
इंडिया इंडिया फीलिंग: विकास धवन ने अपनी इस किताब में अपने बचपन के भारत के रंगों को बिखेरा सूंदर मुंदरिये तेरा कौन बेचारा- दुल्ला भठी वाला गाकर मनाई लोहड़ी बॉलीवुड स्टार डिजाइनर और स्टाइलिस्ट एशले रेबेलो ने आईएनआईएफडी छात्रों के साथ की सीधी बातचीत बच्चों का बचपन सँवारने में बालों में कब सफेदी आ गई, पता ही नहीं चला.... 'चंडीगढ़ करे आशिकी’ पर बोलीं नाज़ जोशी- ट्रांस अधिकार हैं मानवाधिकार पंजाब-हरियाणा डान्स स्पोर्ट्स चैम्पियनशिप आयोजित सख्त सर्दी दिल से संबंधित जटिलताओं को बढ़ा सकती है: डॉ. अरुण कोचर सर्दी के मौसम में दिल की सुरक्षा के लिए उपयोगी टिप्स दिए ड्रीम ड्रेसिज डिजाइन मेरा पैशन: अंजलि शर्मा व्यंजन: सर्दियों में अलग विधि से बनाएं मटर का निमोना बेकिंग की शौकीन साइकोलॉजी की 21 वर्षीय स्टूडेंट ने ट्राईसिटी में खोला पहला मेंटल हेल्थ कैफे