ENGLISH HINDI Monday, May 23, 2022
Follow us on
 
हरियाणा

किसानों को मुख्यमंत्री ने दी सौगातः फसल मुआवजा राशि को 12 हजार से बढ़ाकर किया 15 हजार

November 08, 2021 09:52 PM

10 हजार रुपये की मुआवजा राशि को बढ़ाकर साढ़े 12 हजार रुपये किया, - करनाल में 263 करोड़ रुपये की लागत से बने आधुनिक सहकारी चीनी मिल का किया शुभारंभ

चंडीगढ़ : मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने प्रदेश के किसानों को बड़ी सौगात देते हुए फसल खराब होने पर दी जाने वाली मुआवजा राशि को 12 हजार रुपये से बढ़ाकर 15 हजार रुपये और 10 हजार राशि को बढ़ाकर साढ़े 12 हजार रुपये कर दिया है। इसके साथ-साथ इससे नीचे के स्लैब में 25 प्रतिशत की बढ़ोतरी करने की घोषणा भी की है। मुख्यमंत्री ने यह घोषणा सोमवार को करनाल में 263 करोड़ रुपये की लागत से बने आधुनिक सहकारी चीनी मिल के शुभारंभ के दौरान की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार देश भर में सबसे ज्यादा फसल मुआवजा दे रही है। फिर भी कुछ वर्षों से बढ़ोतरी नहीं हुई थी, इसलिए इसमें बढ़ोतरी की गई है। मुख्यमंत्री ने किसानों से आह्वान किया कि वे फसल बीमा जरूर करवाएं। उन्होंने कहा कि सरकार ने दो दिन पहले ही घोषणा की है कि 2 एकड़ भूमि के किसान को फसल बीमा प्रीमियम नहीं भरना पड़ेगा, वहीं 2 से 5 एकड़ भूमि के किसान को राहत देते हुए आधा प्रीमियम सरकार की तरफ से भरने का निर्णय लिया है। 5 एकड़ से अधिक भूमि वाले किसान को खुद फसल बीमा करवाना होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा में गन्ने का रेट देश भर में सबसे ज्यादा है उन्होंने किसानों को आश्वासन दिया कि हरियाणा में गन्ने का रेट सर्वाधिक ही रहेगा। चीनी मिल कर्मचारियों को मिलने वाले 25 रुपये धुलाई भत्ते में तत्काल बढ़ोतरी करते हुए उसे 100 रुपये कर दिया है। मुख्यमंत्री ने इन कर्मचारियों की एक्सग्रेसिया पॉलिसी पर भी विचार करने का आश्वासन दिया।

उन्होंने कहा कि करनाल चीनी मिल की क्षमता को 2200 टीसीडीसी से बढ़ाकर 3500 टीसीडीसी कर दिया है। उन्होंने कहा कि अब करनाल व आसपास के किसानों को गन्ना लेकर कहीं और नहीं जाना पड़ेगा, यदि मिल को ज्यादा चलाने की जरुरत भी पड़ेगी तो उसे चलाया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा में गन्ने का रेट देश भर में सबसे ज्यादा है उन्होंने किसानों को आश्वासन दिया कि हरियाणा में गन्ने का रेट सर्वाधिक ही रहेगा। चीनी मिल कर्मचारियों को मिलने वाले 25 रुपये धुलाई भत्ते में तत्काल बढ़ोतरी करते हुए उसे 100 रुपये कर दिया है। मुख्यमंत्री ने इन कर्मचारियों की एक्सग्रेसिया पॉलिसी पर भी विचार करने का आश्वासन दिया।

बिजली उत्पादन और एथनॉल से होगी गन्ना मिलों की आमदनी
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में 11 सहकारी चीनी मिल है। इन चीनी मिलों का घाटा कम करने के लिए लगातार सरकार प्रयास कर रही है। इन मिलों में बिजली उत्पादन संयत्र और एथनॉल संयत्र लगाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि एथनॉल के संयत्र लगने से देश को विदेशी मुद्रा का लाभ मिलेगा। सरकार चीनी मिलों को विस्तारित करने में 660 करोड़ रुपये लगा रही है। धीरे-धीरे सभी सहकारी चीनी मिलों में बिजली उत्पादन संयत्र और एथनॉल संयत्र लगाए जाएंगे। इससे चीनी मिलों की 
आमदनी बढ़ेगी और घाटा कम होगा।

किसानों की आय दुगनी करना सरकार का मुख्य लक्ष्य
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि किसानों की आय दोगुनी करना उनकी सरकार का मुख्य लक्ष्य है। सरकार लगातार प्रोग्रेसिव किसानों को प्रोत्साहित कर रही है। इसके साथ-साथ अन्य किसानों को भी परंपरागत खेती की बजाए फलों व सब्जियों से जुड़ी खेती करने के लिए प्रोत्साहन दिया जा रहा है।

खाद की कमी नहीं आने दी जाएगी
मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को गेहूं व सरसों की बिजाई में खाद की कमी नहीं आने दी जाएगी। लगातार केंद्रीय मंत्री से बातचीत कर खाद की आपूर्ति को सुनिश्चित किया जा रहा है। हर दिन की मांग के मुताबिक पर्याप्त खाद हरियाणा पहुंच रही है। मुख्यमंत्री ने किसानों को आश्वस्त किया कि उन्हें किसी तरह की परेशानी नहीं आने दी जाएगी।

नई सिंचाई तकनीक अपनाए किसान
मुख्यमंत्री ने किसानों को नई सिंचाई तकनीक अपनाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि भूमिगत जल के लगातार इस्तेमाल से कुछ इलाके डार्क जोन में जा रहे हैं। ऐसे में किसानों को ड्रिप, टपका आदि नई-नई तकनीक के माध्यम से सिंचाई करनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने सिंचाई व्यवस्था को लेकर इजराइल का उदाहरण भी दिया, जहां सीधे सिंचाई न करके अलग-अलग तकनीक के माध्यम से सिंचाई की जाती है।

पराली को न जलाए किसान
मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को पराली नहीं जलानी चाहिए। इससे प्रदूषण बढ़ता है। सरकार पराली न जलाने वाले किसानों को 1 हजार रुपये प्रोत्साहन राशि दे रही है। इसके अलावा रैड जोन इलाकों में जो पंचायतें पराली न जलाने का सर्टिफिकेट दे रही हैं उन्हें 10 लाख रुपये की विकास अनुदान राशि भी दी जा रही है।

किसान आंदोलन का हो सकता है हल
मुख्यमंत्री ने किसान आंदोलन पर कहा कि यह किसानों का नहीं बल्कि कुछ लोगों का आंदोलन है। अगर वे जिद छोड़ दे तो इसका समाधान हो जाएगा। रास्ता रोकने की वजह से जनता को परेशानी उठानी पड़ रही है। अगर जिद छोड़कर बातचीत करें तो समस्या का हल होने में देर नहीं होगी। इस कार्यक्रम के दौरान सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल, करनाल के सांसद श्री संजय भाटिया, शुगर फेड के चेयरमैन श्री रामकरण, नीलोखेड़ी के विधायक श्री धर्मपाल गौंदर, इंद्री के विधायक श्री रामकुमार कश्यप, घरौंडा के विधायक श्री हरविंद्र कल्याण, एसीएस श्री संजीव कौशल व अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें
हरियाणा सरकार ने तुरंत प्रभाव से 2 आईएएस और 2 एचसीएस अधिकारियों के स्थानांतरण एवं नियुक्ति आदेश जारी किए हरियाणा: 25 मई तक खुली रहेंगी मंडियां सावधान! बकाया बिजली बिल के फर्जी एसएमएस भेजकर उपभोक्ताओं से ठगी की कोशिश ‘मीडिया महाकुंभ 2022’ का आयोजन 28 मई को पंचकूला में पंचकुला के सेक्टर 10 में वार्षिक महोत्सव सिद्ध पौणाहारी दा - 2022 का आयोजन 6 मई को भगवान परशुराम का संदेश व शिक्षाएं हैं सम्पूर्ण विश्व के लिए कल्याणकारी : ज्ञानचंद गुप्ता गुरुग्राम में महिला का कंगन छीनने पर दो सपेरे गिरफ्तार खाद्य वस्तुओं की जांच के लिए खोली जाएंगी पांच और लैब: स्वास्थ्य मंत्री हरियाणा में वाहनों को फिटनेस प्रमाण पत्र जारी करने के प्रोसेस में गड़बडिय़ां हरियाणा सरकार प्राइवेट स्कूलों के बकाया 1500 करोड़ रुपए लौटाए: कुलभूषण शर्मा