ENGLISH HINDI Saturday, July 02, 2022
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
इश्क में अंधी महिला ने प्रेमी संग मिल पति को मार डालाहिमाचल में अगली सरकार कांग्रेस की बनेगी, पार्टी एकजुट है: सुखविंदर सिंह सुक्खूइनर व्हील क्लब ने क्रेच के बच्चों के लिए दन्त चिकित्सा शिविर लगाया 'गो मैन-गो फेस्टिवल' फ्राम आर्गेनिक फार्मिंंग शुरू, 24 जुलाई तक चलेगापांच शूटरों सहित गिरफ्तार किये व्यक्तियों से 9 हथियार और 5 वाहन बरामदठेका आधारित कर्मियों की सेवाएं रेगुलर करने के लिए तीन सदस्यीय कैबिनेट कमेटी का गठनबारिश से शमशान घाट में रुके संस्कार, युवा कांग्रेस ने की एसडीओ को सस्पेंड करने की मांगशाह जी बाबा नौ गजा पीर जी का 27वां वार्षिक उर्स मुबारक मेला आयोजित
धर्म

भागवत कथा से मन का शुद्धिकरण होता है: पंडित सुमित शास्त्री महाराज

April 28, 2022 08:08 AM

 ज्वालामुखी (विजयेन्द्र शर्मा)  

कथा की सार्थकता तब ही सिद्ध होती है जब इसे हम अपने जीवन व व्यवहार में धारण कर निरंतर हरि स्मरण करते हैं। अपने जीवन को आनंदमय, मंगलमय बनाकर अपना आत्म कल्याण करें। अन्यथा यह कथा केवल मनोरंजन, कानों के रस तक ही सीमित रह जाएगी। भागवत कथा से मन का शुद्धिकरण होता है। इससे संशय दूर होता है और शांति व मुक्ति मिलती है।

यह बात ज्वालामुखी के प्राचीन अष्टभुजी मंदिर के प्रांगण में सुषमा सूद के परिवार की ओर से आयोजित श्री मद् भागवत कथा में पंडित सुमित शास्त्री महाराज ने कथा का वाचन करते हुए कही। उन्होंने कहा कि श्रीमद‌् भागवत कथा श्रवण से जन्म जन्मांतर के विकार नष्ट हो जाते हैं। जहां अन्य युगों में धर्म लाभ एवं मोक्ष प्राप्ति के लिए कड़े प्रयास करने पड़ते हैं, कलियुग में कथा सुनने मात्र से व्यक्ति भवसागर से पार हो जाता है। सोया हुआ ज्ञान वैराग्य कथा श्रवण से जाग्रत हो जाता है। कथा कल्पवृक्ष के समान है, जिससे सभी इच्छाओं की पूर्ति की जा सकती है।

भागवत पुराण हिन्दुओं के अट्ठारह पुराणों में से एक है। इसे श्रीमद् भागवत या केवल भागवतम् भी कहते हैं। इसका मुख्य विषय भक्ति योग है, जिसमें श्रीकृष्ण को सभी देवों का देव या स्वयं भगवान के रूप में चित्रित किया गया है। इस पुराण में रस भाव की भक्ति का निरूपण भी किया गया है। भगवान की विभिन्न कथाओं का सार श्रीमद‌् भागवत मोक्ष दायिनी है। इसके श्रवण से परीक्षित को मोक्ष की प्राप्ति हुई और कलियुग में आज भी इसका प्रत्यक्ष प्रमाण देखने को मिलते हैं। श्रीमदभागवत कथा सुनने से प्राणी को मुक्ति प्राप्त होती है ।

उन्होंने कहा कि भागवत पुराण हिन्दुओं के अट्ठारह पुराणों में से एक है। इसे श्रीमद् भागवत या केवल भागवतम् भी कहते हैं। इसका मुख्य विषय भक्ति योग है, जिसमें श्रीकृष्ण को सभी देवों का देव या स्वयं भगवान के रूप में चित्रित किया गया है। इस पुराण में रस भाव की भक्ति का निरूपण भी किया गया है। भगवान की विभिन्न कथाओं का सार श्रीमद‌् भागवत मोक्ष दायिनी है। इसके श्रवण से परीक्षित को मोक्ष की प्राप्ति हुई और कलियुग में आज भी इसका प्रत्यक्ष प्रमाण देखने को मिलते हैं। श्रीमदभागवत कथा सुनने से प्राणी को मुक्ति प्राप्त होती है ।

कथा में पंडित सुमित शास्त्री ने कहा श्रीकृष्ण की रासलीला के दर्शन करने के लिए शिवजी को गोपी का रूप धारण करना पड़ा। आज हमारे यहां भागवत रूपी रास चलता है, परंतु मनुष्य दर्शन करने को नहीं आते। वास्तव में भगवान की कथा के दर्शन हर किसी को प्राप्त नहीं होते। कलियुग में भागवत साक्षात श्रीहरि का रूप है। पावन हृदय से इसका स्मरण मात्र करने पर करोड़ों पुण्यों का फल प्राप्त हो जाता है। इस कथा को सुनने के लिए देवी देवता भी तरसते हैं और दुर्लभ मानव प्राणी को ही इस कथा का श्रवण लाभ प्राप्त होता है। कथा के श्रवण मात्र से ही प्राणी मात्र का कल्याण संभव है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें
"उड़दियां रेहनिया पतंगां जिन्ना दियां डोरां जोगी ने फड़ियां होईआं ने" प्राचीन गुग्गा माडी मंदिर में लखदाता पीर का वार्षिक उत्सव का आयोजन सोमवति आमवस्या पर शनि जयंती 30 मई को शनि मन्दिर बहादराबाद हरिद्वार में श्री मद् देवी भागवत् पुराण सभी शास्त्रों और धार्मिक ग्रंथों में महान: डॉ बालगोविंद शास्त्री श्रीमद् देवी भागवत कथा एकाग्रचित होकर सुनना चाहिए: डॉ बाल गोविंद शास्त्री जी महाराज भागवत की कथा सुनने मात्र से हर प्राणी को मोक्ष की प्राप्ति होती है: सुमित शास्त्री 16 अप्रैल को मनाया जाएगा श्री हनुमान जन्म उत्सव श्री सनातन धर्म मंदिर में श्री राम नवमी पर्व धूमधाम से मनाया गया गौड़ीय मठ के राधा-माधव पहुंचे अपने नए घर, सागवान से बने सिंहासन पर हुए विराजमान चैतन्य गौड़ीय मठ के धर्म सम्मेलन की तैयारियां पूर्ण