ENGLISH HINDI Thursday, October 06, 2022
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा समारोह: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर और मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने रथ यात्रा में भाग लिया ड्रोन आधारित हथियारों की तस्करी में एक कैदी समेत दो गिरफ्तार10,000 रुपए रिश्वत लेते एफ. सी. आई का सेवामुक्त कर्मचारी रंगे हाथों काबूउत्कर्ष ग्लोबल फाउंडेशन ने सिंगल प्लास्टिक यूज को लेकर जागरूकता अभियान चलायादिल्ली पब्लिक स्कूल-40 बना टेनिस अंडर-17 बालिका वर्ग चैंपियनरिश्वत के आरोप में राजस्व पटवारी और उसके निजी सहायक के खि़लाफ़ भ्रष्टाचार का केस दर्ज25,000 रुपए रिश्वत लेने के पनसप आरोप में इंस्पेक्टर गिरफ़्तारतेज रफ्तार कार की चपेट में आने से बुजुर्ग महिला की मौत
हिमाचल प्रदेश

लारेट कॉलेज के आधुनिक ऑडिटोरियम का लोकार्पण

August 12, 2022 07:13 PM

एक करोड़ 25 लाख रुपये की लागत से बनकर तैयार हुआ, 400 लोगों के बैठने की है क्षमता

विजयेन्दर शर्मा/ज्वालामुखी

ज्वालामुखी के लोरेट फार्मेसी कालेज करीब एक करोड़ 25 लाख रुपये की लागत से बनकर तैयार आधुनिक सुविधाओं से लैस ऑडिटोरियम का उद्घाटन लोरेट एजूकेशन सोसाइटी की सचिव डॉक्टर श्रीमती मीरा सिंह ने किया। इसमें करीब 400 लोगों के बैठने की व्यवस्था है। और आने वाले दिनों में इसमें विस्तार करने की योजना भी है। इसमें संस्थान के अलावा बाहरी लोग भी अपने कार्यक्रम करवा सकेंगे।

इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि 15 साल के लंबे सफर में संस्थान ने भले ही कई उतार चढाव देखें हों। लेकिन संस्थान ने हमेशा ही क्वालिटी एजुकेशन को ही अपना एकमात्र ध्येय रखा है। और इसी वजह से आज पूरे उत्तरी भारत में इस फार्मेसी कालेज का अपनी एक पहचान है। शिमला और ज्वालामुखी में संस्थान के पांच शैक्षणिक संस्थान चल रहे है। जहां बेहतरीन शिक्षा छात्ऱों को दी जा रही हे। उन्होंने छात्रों से अपना लक्ष्य निर्धारित कर आगे बढ़ने का मंत्र देते हुये कहा कि हमेशा ही छात्र जीवन में सपने ऊँचे होने चाहिये।

डाक्टर श्री मति मीरा सिंह ने कहा कि बदलते युग में फार्मा सेक्टर लोगों के स्वास्थ्य के साथ अभिन्न रूप से जुड़ गया है इस समय तेजी से बढ़ रहे हेल्थकेयर सेक्टर में फार्मा क्षेत्र अग्रणी है। कोविड-19 संकट हो या कि सामान्य समय, असाधारण रोगों, आपदाओं या स्वास्थ्य रक्षा के लिए फार्मा सेक्टर की जरूरत कभी खत्म नहीं होने वाली है और वर्तमान स्थितियां चिकित्सीय परीक्षणों और दवाई उत्पादन के एक नए दौर की शुरुआत के तौर भी देखी जा रही हैं।

उन्होंने 15 साल पहले अपनी बैंकाक यात्रा को स्मरण करते हुये बताया कि उस समय प्रदेश में फार्मेसी पाठ्यक्रम ही नहीं था। लेकिन आज हालात बदले हैं। आज भारत वैश्विक स्तर पर फार्मा सेक्टर के लिए कुशल लोगों को उपलब्ध कराने वाले अग्रणी देशों में दूसरे नंबर पर है। यानी इस सेक्टर को अपनाने का एक अर्थ यह भी है कि कुशल युवा के लिए संभावनाएं विश्व में कहीं भी उपलब्ध रहेंगी। यहां हर किसी के लिये बेहतरीन अवसर है।

डाक्टर श्री मति मीरा सिंह ने कहा कि बदलते युग में फार्मा सेक्टर लोगों के स्वास्थ्य के साथ अभिन्न रूप से जुड़ गया है इस समय तेजी से बढ़ रहे हेल्थकेयर सेक्टर में फार्मा क्षेत्र अग्रणी है। कोविड-19 संकट हो या कि सामान्य समय, असाधारण रोगों, आपदाओं या स्वास्थ्य रक्षा के लिए फार्मा सेक्टर की जरूरत कभी खत्म नहीं होने वाली है और वर्तमान स्थितियां चिकित्सीय परीक्षणों और दवाई उत्पादन के एक नए दौर की शुरुआत के तौर भी देखी जा रही हैं।

पिछले वर्ष भारत ने कई देशों में दवाइयों का निर्यात करके दुनिया में खुद को फार्मेसी हब के रूप में स्थापित भी किया है। आने वाले दिनों में इसी सेक्टर में बेहतरीन अवसर उपलब्ध होंगे। इस अवसर पर कॉलेज के एम डी डाक्टर रण सिंह , प्राचार्य एम एस अशावत , वाईस प्रिंसिपल विनय पंडित ने भी अपने विचार रखे।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा समारोह: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर और मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने रथ यात्रा में भाग लिया पेयजल गुणवत्ता में अव्वल रहा हिमाचल, गांधी जयंती पर होंगे पुरस्कृत स्कूली बच्चों के मसीहा बने मुकेश ठाकुर , बच्चों को दे रहे मुफ्त में किताबें-कापियां संवदेनशील क्षेत्रों की वहन क्षमता के आकलन के लिए समिति का गठन शिमला-दिल्ली-शिमला हवाई सेवा पुनरारंभ मोदी की मंडी रैली में करोड़ों रुपये पानी की तरह बहाया गया : होशियार सिंह भारती नकली होलोग्राम, लेबल व कॉर्क ज़ब्त, दोषियों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज भारतीय चुनाव आयोग टीम हिमाचल के तीन दिवसीय दौरे पर आम आदमी पार्टी प्रदेश के लोगों की बनेगी पहली पसंद: भारती हिमाचल में आयोजित की जाएगी लोहे की कड़ाही प्रतियोगिता