ENGLISH HINDI Wednesday, May 29, 2024
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कांग्रेसी उम्मीदवार डॉक्टर धर्मवीर गांधी के समर्थन में जनसभा का आयोजनशार्पनर ने लॉंच किया नया गाना "इंजीनियरिंग एंथम - सीढ़ी है छोटी और ख्वाब है बड़े"राजस्थान हाई कोर्ट का जिला कलेक्टर पाली को साक्ष्य अधिनियम के तहत सूचना देने का आदेशआचार्यकुल चण्डीगढ़ ने सम्मान समारोह आयोजित कियाजय केदार व हर-हर महादेव के जयकारों के बीच श्री केदारनाथ धाम के लिए राशन लदे 4 ट्रक रवानारमनजीत कौर चहल की संसद में हुई बतौर हिंदी व अंग्रेजी से पंजाबी लाइव स्पीच ट्रांसलेटर सिलेक्शनविख्यात खानदानी वैद्य हरभजन सिंह योगी की 80वीं वर्षगांठ पर आइस क्रीम का लंगर लगायाबारहवीं कक्षा के अभिनव शर्मा ने 91.4 फ़ीसदी अंक लेकर रहे अव्वल
पंजाब

बरनाला के बहुचर्चित सन्नी हत्याकांड में आरोपित हुए बा-इज्जत बरी

March 28, 2024 08:24 PM

अखिलेश बंसल, बरनाला  

05-12-2020 की रात स्थानीय सेखा रोड बरनाला निवासी सन्नी कुमार उर्फ गोरा पुत्र अनिल कुमार की हत्या कर शव को टुकड़े-टुकड़े करने और शव को आस्था के पास नाले में फेंकने के मामले में आरोपित रजनीश कुमार उर्फ मक्खन पुत्र बिक्रम शाह, रवि पांडे पुत्र विनोद पांडे, हरदीप कुमार उर्फ भीमा पुत्र राम नाथ, राम प्रताप उर्फ राम प्रकाश पुत्र शिव दास, कुन्दन प्रशाद पुत्र तेरस प्रशाद गुप्ता निवासी प्रेम नगर बरनाला को अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश श्री देविंदर कुमार गुप्ता की माननीय न्यायालय ने बा-इज्जत बरी करने का आदेश सुनाया है। 

यह बताया मामलाः

एडवोकेट धीरज कुमार गोयल ने दी है, उन्होंने बताया कि आदेश कुमार पुत्र अनिल कुमार निवासी सेखा रोड बरनाला द्वारा रजनीश कुमार उर्फ मक्खन, रवि पांडे, हरदीप कुमार उर्फ भीम, राम प्रताप उर्फ राम प्रकाश तथा कुन्दन प्रशाद के विरुद्ध आरोप लगाया था कि 05-12-2020 की रात के समय उक्त व्यक्तियों ने सन्नी कुमार उर्फ गोरा के साथ बैठकर शराब पी और जब वह नशे में धुत हो गया तो किरपान से उसकी हत्या कर दी और उसके शव के टुकड़े-टुकड़े कर बरनाला स्थित आस्था कॉलोनी के पास से गुजरते नाले में फेंक दिये।

आदेश कुमार के बयान पर पुलिस ने 10-12-2020 को प्राथ्मिक एफआईआर नंबर 482 जेरे धारा 302/201/120-बी/506 आईपीसी के तहत रजनीश कुमार उर्फ मक्खन, रवि पांडे, हरदीप कुमार उर्फ भीम, राम प्रताप उर्फ राम प्रकाश और कुंदन प्रशाद के खिलाफ दर्ज की। 

मिले शव से चिन्ह मेल नहीं होने पर आरोपित हुए बरीः-

घटना के कुछ दिनों बाद एक गटर से शव मिलने पर भले ही सन्नी के परिजनों ने आरोपितों में उक्त लोगों के नाम शामिल कर दे थे, जिनके आधार पर आरोपितों को हवालात की हवा खानी पड़ी। लेकिन रिकार्ड के अनुसार शव की पूरी तरह से शिनाखत ही नहीं हो सकी। क्योंकि शव को बड़े पैमाने पर कीड़ों द्वारा खाया हुआ था।

इधर कत्लारोपित रजनीश कुमार, हरदीप कुमार और राम प्रताप उर्फ राम प्रकाश के वकील धीरज कुमार, कत्लारोपित रवि पांडे के वकील जगजीत सिंह और आरोपी कुंदन प्रसाद के वकील नरेंद्रपाल सिंह ने माननीय अदालत को दलीलें दी कि सन्नी कुमार उर्फ गोरा के पिता और भाई ने पुलिस को बताया था कि सन्नी 04-12-2020 को लापता हो गया था, लेकिन परिवार ने 10-12-2020 तक किसी भी पुलिस स्टेशन में कोई गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई थी। जबकि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक शव के पेट में अधपचा खाना मौजूद था, अगर किसी भी व्यक्ति की मौत खाना खाते समय हुई होती तो पेट में अधपचा खाना जरूर मौजूद होता। वकीलों ने अदालत को बताया कि सन्नी कुमार को किसी भी व्यक्ति ने आखिरी बार कहीं देखा भी नहीं था। जिसको लेकर माननीय न्यायालय ने वकीलों की दलीलों से सहमति होते हुए कत्लारोपितों को बरी करने का आदेश सुनाया। 

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
कांग्रेसी उम्मीदवार डॉक्टर धर्मवीर गांधी के समर्थन में जनसभा का आयोजन डेयरी की आड़ में गोवंश को बूचड़खाना भेजने के आरोपित के खिलाफ एफआईआर फिजियोथैरेपी एवं होम्योपैथी चिकित्सा परामर्श कैंप आयोजित दीपक चनारथल पंजाब के 50 शक्तिशाली व्यक्तियों में शामिल किसानों ने रुकवाई संगरूर के पत्रकार के घर की कुर्की जेल में भिड़े कैदी, दो की मौत-दो घायल, 10 के खिलाफ मामला दर्ज भारतीय सेना में तैनात अग्निवीर जवान सुखविंदर सिंह ड्यूटी के दौरान शहीद भारत-पाक बॅार्डर पर बैसाखी उत्सव की धूम : पाकिस्तानी भी भांगड़े व गिद्दे पर थिरके वरिष्ठ पत्रकार जगीर सिंह जगतार का निधन गतका खेल लड़कियों के लिए आत्मरक्षा का बेहतर, आसान और सस्ता विकल्प - हरजीत सिंह ग्रेवाल