ENGLISH HINDI Sunday, June 16, 2024
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
विधानसभा चुनावों में जोर पकड़ेगी हरियाणा के लिए नई राजधानी और अलग उच्च न्यायालय की मांग : रणधीर सिंह बधरानधर्मांतरण के खिलाफ आवाज उठाने का खामियाजा भुगत रहीं हैं वनीत कौर : जेल जाने से लेकर पति से अलगाव भी सहन कियाशिमला, चंबा, सिरमौर, मंडी और कुल्लू में स्थापित होंगी एनडीआरएफ की छोटी टुकड़ियांज्योतिष सम्मेलन में कुंडली दिखाने उमड़े लोग, प्रख्यात ज्योतिषाचार्य नवदीप मदान सम्मनितगुरुद्वारा नानकसर साहब में गुरु अर्जुन देव जी के शहीदी दिवस पर लगाई छबील अगर हम परमात्मा का नाम किसी भी बहाने से लेंगे तो हमारा कल्याण हो जाएगा : स्वामी राज दास जी महाराज चायल मेले में महकी स्वयं सहायता समूहों के उत्पादों की खुशबूसीआईएसएफ कांस्टेबल को सम्मानित करेगा दिशा वूमेन वेलफेयर ट्रस्ट
 
 
संपादकीय
एक तरफ किसानों से बातचीत तो दूसरी और किसानों पर अद्वितीय गोलाबारी क्या यह है 2024 के बाद का भारत

दो साल पहले, हजारों भारतीय किसान तीन नए कृषि कानूनों के विरोध में नई दिल्ली में एकत्र हुए थे, जिनका उद्देश्य भारत के कृषि उद्योग को नियंत्रणमुक्त करवाना और इसे मुक्त-बाजार ताकतों के लिए खोलना था। 

एक तरफ किसानों से बातचीत तो दूसरी और किसानों पर अद्वितीय गोलाबारी क्या यह है 2024 के बाद का भारत

दो साल पहले, हजारों भारतीय किसान तीन नए कृषि कानूनों के विरोध में नई दिल्ली में एकत्र हुए थे, जिनका उद्देश्य भारत के कृषि उद्योग को नियंत्रणमुक्त करवाना और इसे मुक्त-बाजार ताकतों के लिए खोलना था। 

वाहन बीमा पॉलिसी में दुर्घटना में मृत्यु ही नहीं बल्कि अपंगता लाभ भी मांगो

यदि अदालतें इन परिस्थितियों में भी उनके मुआवजे में कंजूसी करेंगी तो ये घायल पीड़ित के लिए अपमान के समान परिणामी है।

वसंत पंचमी इतिहास के झरोखों से

जैसे ही वसंत आता है, उपकार फिल्म का प्रसिद्ध गीत -‘पीली पीली सरसों फूली, पीली उड़े पतंग, अरे पीली पीली उड़े चुनरिया, पीली पगड़ी के संग’, भी खेतों का दृश्य लेकर मन मस्तिष्क में तैरने लगता है।

वसंत पंचमी इतिहास के झरोखों से लीव एंड लाइसेंस एग्रीमेंट अपनाएं और प्रॉपर्टी पर किरायेदारों के अनुचित दावे से बचें वाहन बीमा पॉलिसी में दुर्घटना में मृत्यु ही नहीं बल्कि अपंगता लाभ भी मांगो वसंत पंचमी इतिहास के झरोखों से कृषि कानून वापस कैसे हो भाई- आगे है कुआं तो पीछे खाई याचना नहीं, अब रण होगा, जीवन-जय या कि मरण होगा किसान त्रस्त - सरकारें मस्त सरकारों को क्यों सुनाई नहीं देता धरतीपुत्र का आर्तनाद आयकर विभाग का इंस्टेंट पैन कार्ड सुविधा में एक पेंच, जनता परेशान दिल्ली में क्यों बढ़ जाता है अक्टूबर से ही प्रदूषण? पराली ही नहीं अन्य फैक्टर भी हैं जिम्मेदार मौत में अपना अस्तित्व तलाशता मीडिया मां भारती सुशांत राजपूत की मौत का रहस्य— हत्या या आत्महत्या? हमारे जीवन, जीवनशैली और रोज़गार से कम-से-कम संसाधनों का दोहन हो बिहार रेजीमेंट के शूरवीरों ने कैसे चीनियों की पिटाई, बौनों को बौनी क्षमता का करवाया अहसास जंगल के नियम बनाम इंसाफ का तकाजा अच्छे दिन बनाम भुखमरी कोरोना या कादर का कहिर क्या सुप्रीम कोर्ट सिर्फ रसूखदारों की सुनती है आम जनता की नहीं? इरफान के विवेक_की पराकाष्ठा को परख गई प्रकृति प्राकृतिक सम्पदा संभालने का सुनहरा अवसर लॉक डाउन में प्रीपेड मोबाइल को वैलिडिटी एक्सटेंशन का लाभ डी टी एच उपभोक्ता को क्यो नहीं श्रापित दुनिया की ठेकेदार पांच महाशक्तियां सवालों के घेरे में पुत्रमोह मे फँसे भारतीय राजनेता एवं राजनीति, गर्त मे भी जाने को तैयार पवित्रता की याद दिलाती है ‘राखी’ करीब 50 गाँव के बीच में एक आधार केंद्र परबत्ता, 2-3 चक्कर से पहले पूरा नहीं होता कोई काम अपने हृदय सम्राट, पुण्यात्मा, समाज सुधारक स्व: सीताराम जी बागला की पुण्यतिथि पर नतमस्तक हुए क्षेत्रवासी क्या चुनावों में हर बार होती है जनता के साथ ठग्गी? क्या देश का चौकीदार सचमुच में चोर है?