ENGLISH HINDI Friday, December 06, 2019
Follow us on
 
संपादकीय

अपने हृदय सम्राट, पुण्यात्मा, समाज सुधारक स्व: सीताराम जी बागला की पुण्यतिथि पर नतमस्तक हुए क्षेत्रवासी

June 25, 2019 11:35 AM

सिरसा, फेस2न्यूज:
विधायक के रूप में सिरसा का नेतृत्व करने वाले अग्रणी समाज सुधारक स्व. सीताराम जी बागला को क्षेत्र वासियों द्वारा उनको याद करके भावभिनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई।
इस नश्वर संसार को छोड़ जाने के इतने वर्षों बाद भी वे लोगों के हृदयों में विराजमान हैं। अग्रणी व सक्षम नेतृत्व की भूमिका निभाने वाले श्री सीताराम जी बागला का विनोबा भावे भूदान आंदोलन एवं शिक्षा क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान रहा है।
श्री सीताराम जी बागला संयुक्त पंजाब के ऐसे पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने भूदान आंदोलन से जुड़ कर अपनी सारी भूमि दान कर दी। बड़ी बात ये है कि स्वयं श्री विनोबा भावे जी ने उनके गांव पंहुच कर जमीनें वितरित की।   

 
वे लडकियों की शिक्ष के सदैव हामी रहे और अपने संकल्प से महिला कालेज का निर्माण करवाया। इतना ही नहीं, वे सदैव दहेज प्रथा के भी खिलाफ रहे।
ऐसी महान विभूति सन् 2000 में अपनी सांसरिक यात्रा को पूर्ण कर मुक्ति धाम में चले गए लेकिन उनके द्वारा किए गए सद्कार्यो ने लोगों के दिलों पर अमिट छाप छोड कर उन्हें जिन्दा रखे हुए है।
उनकी पुण्यतिथि पर प्रार्थना एवं भजन कार्यक्रमों की प्रस्तुती रियाज संगीत अकादमी की ओर दी गई। जिसमें नगर के गणमान्य लोग एवं परिवारिक सदस्य शामिल हुए और उन्हें याद करते हुए श्रद्धासुमन भेंट किए।
उन्हीं के पदचिन्हों पर चलते हुए ऐसे ही समाजसेवा के कार्यो को आगे बढाने में उनके सुपुत्र श्री परवीण जी बागला तथा उनके भ्राता अग्रिम पंक्ति में शामिल हैं। जो निशुल्क नेत्रालय चला कर, शिक्षा क्षेत्र में यथासम्भव सहयोग कर तथा ऐसे ही अन्य समाज भलाई के कार्यक्रमों को निरंतर गति दे रहे हैं।    

कार्यक्रम रानियां रोड पर स्थित बाबा बिहारी जी की समाधि पर आयोजित किया गया। जहां व्योवृद्ध चिकित्सकडा. आर एस सागवाल, हरियाणा टूरिजम के चेयरमैन जगदीश चोपड़ा तथा बार एसोसिएशन केपूर्व प्रधान रमेश मेहता द्वारा उनकी प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम की शुरूआत की गई।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और संपादकीय ख़बरें
पुत्रमोह मे फँसे भारतीय राजनेता एवं राजनीति, गर्त मे भी जाने को तैयार पवित्रता की याद दिलाती है ‘राखी’ करीब 50 गाँव के बीच में एक आधार केंद्र परबत्ता, 2-3 चक्कर से पहले पूरा नहीं होता कोई काम क्या चुनावों में हर बार होती है जनता के साथ ठग्गी? क्या देश का चौकीदार सचमुच में चोर है? रोड़ रेज की बढ़ती घटनाएं चिंताजनक नवजोत सिद्धू की गांधीगिरी ने दिया सिखों को तोहफा: गुरु नानक के प्रकाशोत्सव पर मोदी सरकार का बड़ा फैसला, करतारपुर कॉरिडोर को मंजूरी भीड़ भाड़ वाले बाजारों से दूर लगने चाहिए पटाखों के स्टाल दश—हरा: पहले राम बनो— तब मुझे जलाने का दंभ भरो हिंदुस्तान को वर्तमान का प्रजातंत्र नहीं बल्कि सही मायनों में लोकशाही या तानाशाह की जरूरत