ENGLISH HINDI Wednesday, April 17, 2024
Follow us on
 
एन. आर. आई.

सरकारी जमीनों के कब्जे छुड़ाने का पंजाब सरकार का प्रयास सराहनीय : विक्रम बाजवा

May 18, 2022 05:05 PM

पंजाब में एनआईआर सभा को भंग करने व कनिष्क आतंकी हमले के शहीदों की याद में स्मारक बनाने की मांग उठाई

  चण्डीगढ़ :फेस2न्यूज:

इंडस फाउंडेशन के अध्यक्ष प्रवासी भारतीय विक्रम बाजवा ने आज यहां चण्डीगढ़ प्रेस क्लब में आयोजित एक पत्रकार वार्ता में पंजाब की भगवंत मान सरकार से प्रवासी भारतीयों की समस्याओं के हल की मांग की है। इस संदर्भ में उन्होंने मुख्यमंत्री भगवंत मान और पंचायत एवं एनआरआई मंत्री कुलदीप सिंह धालीवाल को पत्र लिखा है।

बाजवा ने पत्रकारों से बातचीत करते कहा कि पंजाब के प्रवासी भारतीयों को पंजाब की वर्तमान सरकार से बड़ी अपेक्षाएं हैं। इस सरकार के गठन में प्रवासी भारतीयों का बड़ा योगदान है। उन्होंने पंजाब सरकार से मांग की कि जिस प्रकार सरकार सरकारी जमीनों के कब्जे हटवा रही है एक सराहनीय काम है। उन्होंने कहा प्रवासी भारतीयों की जमीनों पर बड़े असरदार लोगों ने कब्जे कर रखे हैं। इन के मामले अदालतों में सालों-साल से लंबित पड़े हैं।

प्रवासी भारतीयों के विदेश में रहने का लाभ उठाते हुए लोगों ने सम्पतियों पर कब्जे कर रखे हैं। उन्होंने सरकार से मांग की है कि इन मामलों को अदालतों से निकाल कर पंचायत जमीनों की तर्ज पर कब्जे हटवाए और प्रवासी भारतीयों को सौंपे। उन्होंने बताया शुरुआती तौर पर 12700 के लगभग प्रवासी भारतीयों के मामले अदालतों में वर्षों से लटक रहें है। इसके अत्तिरिक्त जो लोग अभी अदालतों में नहीं गए उनकी संख्या इससे भी कहीं अधिक है।

बाजवा ने एक अन्य महत्वपूर्ण मुद्दा उठाते हुए मांग की कि पंजाब और दिल्ली में कनिष्क हवाई आतंकी हमले में हुए शहीदों की याद में कनाडा की तर्ज पर मेमोरियल बनाया जाए। उन्होंने कहा कि कनाडा में इन शहीदों की याद में तीन शहरों में स्मारक बनाये गए हैं परन्तु भारत में एक भी नहीं हैं हालाँकि सभी मृतक भारत से ही जुड़े हुए थे।

बाजवा ने एक अन्य महत्वपूर्ण मुद्दा उठाते हुए मांग की कि पंजाब और दिल्ली में कनिष्क हवाई आतंकी हमले में हुए शहीदों की याद में कनाडा की तर्ज पर मेमोरियल बनाया जाए। उन्होंने कहा कि कनाडा में इन शहीदों की याद में तीन शहरों में स्मारक बनाये गए हैं परन्तु भारत में एक भी नहीं हैं हालाँकि सभी मृतक भारत से ही जुड़े हुए थे।

इस समारक के लिए अप्रवासी भारतीय फंड्स जुटाने को तैयार हैं, बस सरकार उचित जगह की व्यवस्था कर दे। इसके अलावा बाजवा ने पंजाब में एनआईआर सभा को भी भंग करने की मांग करते हुए कहा कि इस संस्था का कोई वजूद नहीं रह गया है। पिछले कुछ वर्षों से पंजाब में अप्रवासी भारतीय सम्मलेन करवाने में भी यहां की पिछली सरकारें व एनआईआर सभा उदासीन रहीं हैं।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और एन. आर. आई. ख़बरें
पंजाबी एनआरआई उद्योगपति दर्शन सिंह धालीवाल कृषि क्षेत्र में दस हज़ार करोड़ निवेश करेंगे पुलिस प्रताड़ित एनआरआई ने की इंसाफ की मांग, इंस्टाग्राम के जरिए लड़की ने हनी ट्रैप करके इटली रहने वाले लड़के व उसके पिता से लूटे 30 लाख से ज़्यादा दस साल से इंसाफ के लिए लडाई लड़ रहे एनआरआई की नहीं हो रही सुनवाई, न्याय न मिलने पर पंजाब विधानसभा के बाहर बैठने की चेतावनी एनआरआई पति ने लंदन जाकर की दूसरी शादी, न्याय को भटक रही भिवानी की पहली पत्नी खन्ना के दखल पर शिकागो में एनआरआई सिख पर हमला करने वालों पर मामला हुआ दर्ज इराक में आई एस द्वारा बंधक बनाए गये पंजाब से सम्बंधित 39 अप्रवासी भारतियों के मुद्दे पर मोदी चुप्पी तोड़ें : विक्रम जीत सिंह बाजवा गुरदासपुरआयुक्त और एसएसपी को डैनमार्क आधारित एनआरआई की सम्पत्ति को खाली करवाने को यकीनी बनाने के आदेश प्रवासी महिला के खाते से लाखों रूपए निकलवाने पर एडीजीपी क्राईम को जांच के आदेश होटल में ठहरे एनआरआई की मौत पात्र, पन्नू, बैंस ने की मिंटू बराड़ की पुस्तक कैंगरूनामा रिलीज