ENGLISH HINDI Friday, September 18, 2020
Follow us on
 
अंतर्राष्ट्रीय

भारत—जापान के बीच द्विपक्षीय विनिमय व्‍यवस्‍था समझौता

February 28, 2019 07:44 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
भारतीय रिजर्व बैंक और बैंक ऑफ जापान ने भारत और जापान के बीच द्विपक्षीय विनिमय व्‍यवस्‍था (बीएसए) समझौते पर हस्‍ताक्षर करने का कार्य पूरा कर लिया है। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की टोक्‍यो यात्रा के दौरान भारत और जापान के बीच बीएसए के बारे में बातचीत हुई थी। इस समझौते से भारत की 75 अरब अमरीकी डॉलर तक पहुंच संभव होगी, जबकि इससे पहले बीएसए में केवल 50 अरब अमरीकी डॉलर की पहुंच की व्‍यवस्‍था थी। केन्‍द्रीय मंत्री मंडल ने 10 जनवरी को बीएसए की मंजूरी दी थी।
भारत भुगतान संतुलन के उपयुक्‍त स्‍तर को बनाये रखने अथवा अल्‍प अवधि की नकदी को बनाये रखने के उद्देश्‍य से अपनी घरेलू मुद्रा के लिए 75 अरब अमरीकी डॉलर की राशि तक पहुंच स्‍थापित कर सकता है। भारत के विवेक पर बीएसए के एक हिस्‍से तक पहुंच स्‍थापित की जा सकती है। वर्तमान में भारत के पास पर्याप्‍त मात्रा में विदेशी मुद्रा भंडार है। बीएसए इन भंडारों के इस्‍तेमाल के लिए भारत को लचीलापन प्रदान करेगा, यदि किसी समय उसे ऐसा लगता है कि बीएसए के अंतर्गत उपलब्‍ध संसाधनों के इस्‍तेमाल की आवश्‍यकता है।
भारत सरकार ने बीएसए की कार्यसाधकता का स्‍वागत किया है और इस समझौते पर सहमति व्‍यक्‍त करने के लिए जापान के प्रति आभार व्‍यक्‍त किया है। यह मजबूत साझेदारी की भावना से किया गया है। इससे रणनीतिक भागीदारी को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी। इस वित्‍तीय सहयोग से भारत और जापान के बीच मजबूत आर्थिक संबंधों को आगे बढ़ाया जा सकेगा।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और अंतर्राष्ट्रीय ख़बरें
विदेशों में भारत का पर्याय है हिंदी भारतीय सशस्त्र बलों की टुकड़ी ने लिया मॉस्को, रूस में विजय दिवस परेड में हिस्सा 'आर्ट विद हार्ट' के साथ विश्वपटल पर फैलती मधुबनी पेंटिंग दिल्ली में जन्मी, पंजाब में खेली, अमलनेर-अमेरिका में ब्याही डॉ. रश्मि पर टिकी कोरोना वैक्सीन तैयार करने की उम्मीद ब्रिटेन के सांसद तनमनजीत ढेसी को ‘न्यूकमर एम.पी. आफ द ईयर’ पुरुस्कार लेबर पार्टी ने यूके संसद मैंबर ढेसी को बनाया शैडो रेल मंत्री, पंजाबी कल्चरल कौंसिल ने दी बधाई पाकिस्तानी पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को राजद्रोह मामले में फांसी की सजा जर्मनी और भारत ने कृषि बाजार विकास सहयोग के संयुक्त घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर किये लंदन में शोभा यात्रा के साथ संपन्न हुआ 3 दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव लंका के पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे ने स्वीकारा रामायण कांक्लेव का आमंत्रण