ENGLISH HINDI Thursday, March 04, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
न्यू मलौया कॉलोनी वासियों ने भाजपा सांसद के खिलाफ किया प्रदर्शन इस वर्ष भी सीधे भारतीय खाद्य निगम के माध्यम से होगी गेहूं की खरीदः राजेंद्र गर्गजन्मदोष का शीघ्र पता लगाने के लिए प्रसव पूर्व परीक्षण का महत्व अहम: डॉ.गुरजीत कौरवीरेंद्र कश्यप पुनः भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनेट्राइडेंट ग्रुप ने सिविल अस्पताल, रेडक्रॉस सोसायटी व जिला जेल को भेंट की साढ़े तीन लाख राशिगुरुद्वारा श्री नानकसर साहिब में 45वां सात दिवसीय सालाना समागम समारोह शुरू नगर निगम ने कोरोना वारियर सुमिता कोहली को किया सम्मानितखालसा कॉलेज मोहाली की ओर से श्री गुरू तेग बहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व को समर्पित राष्ट्रीय वैबीनार का आयोजन
अंतर्राष्ट्रीय

जर्मनी और भारत ने कृषि बाजार विकास सहयोग के संयुक्त घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर किये

November 01, 2019 08:28 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने आज नई दिल्ली में जर्मनी की खाद्य एवं कृषि मंत्री सुश्री जूलिया क्लोकनर के साथ बैठक की। दोनों मंत्रियों ने भारत और जर्मनी के बीच कृषि बाजार विकास सहयोग से संबंधित संयुक्त घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर किये। बैठक के दौरान श्री तोमर ने कहा कि भारत की प्राथमिकता उत्पादन के बजाय किसान केंद्रित हो गयी है।
2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इसके लिए उत्पादन बढ़ाने, लागत कम करने, प्रतिस्पर्धी बाजार बनाने तथा कृषि के लिए मूल्य श्रृंखला को मजबूत करने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। कृषि निर्यात नीति 2018 के अंतर्गत कृषि निर्यात को 2022 तक दोगुनी कर 60 बिलियन डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। सुश्री जूलिया क्लोकनर ने कहा कि जर्मनी के पास मशीनीकरण और फसल कटाई के बाद प्रबंधन की विशेषज्ञता है। किसानों की आय दोगुनी करने में यह महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। सुश्री क्लोकनर कार्याकारी समूह की बैठक 2008 से जारी रहने से भी प्रभावित हुई। कार्यकारी समूह की बैठकों में खाद्य सुरक्षा, उपभोक्ता संरक्षण जैसे विषयों पर विचार विमर्श किया जाता है।
दोनों मंत्रियों ने कहा कि जर्मनी और भारत के लिए कृषि प्राथमिकता का क्षेत्र है। इसके माध्यम से सतत् विकास लक्ष्य- 2 (भूखमरी मिटाना और कृषि उत्पादन को दोगुना करना) को हासिल किया जा सकता है। सतत् विकास लक्ष्य- 2, अन्य 16 एसडीजी को प्रभावित करता है। दोनों मंत्रियों ने मशीनीकरण, फसल कटाई के बाद प्रबंधन, आपूर्ति श्रृंखला, बाजार तक पहुंच, निर्यात, खाद्य सुरक्षा, प्रयोगशालाओं की स्थापना में सहयोग खाद्य जांच कार्यशाला आदि विषयों पर भी विचार विमर्श किये।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और अंतर्राष्ट्रीय ख़बरें
24 घंटों में ही अपने बयान से पलट गए पाकिस्तान के मंत्री फवाद हुसैन वियतनाम में 35 की मौत, 50 से अधिक लापता विदेशों में भारत का पर्याय है हिंदी भारतीय सशस्त्र बलों की टुकड़ी ने लिया मॉस्को, रूस में विजय दिवस परेड में हिस्सा 'आर्ट विद हार्ट' के साथ विश्वपटल पर फैलती मधुबनी पेंटिंग दिल्ली में जन्मी, पंजाब में खेली, अमलनेर-अमेरिका में ब्याही डॉ. रश्मि पर टिकी कोरोना वैक्सीन तैयार करने की उम्मीद ब्रिटेन के सांसद तनमनजीत ढेसी को ‘न्यूकमर एम.पी. आफ द ईयर’ पुरुस्कार लेबर पार्टी ने यूके संसद मैंबर ढेसी को बनाया शैडो रेल मंत्री, पंजाबी कल्चरल कौंसिल ने दी बधाई पाकिस्तानी पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को राजद्रोह मामले में फांसी की सजा लंदन में शोभा यात्रा के साथ संपन्न हुआ 3 दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव