ENGLISH HINDI Monday, July 22, 2024
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
देश की अदालतों में महिलाओं के इंसाफ की लड़ाई लड़ेगी दिशा वूमैन वैलफेयर ट्रस्टडेरा बस्सी में गुंडागर्दी का नंगा नाच, अपोलो डायग्नोस्टिक सेंटर के बाहर हवाई फायर कर फरार हुए युवक, विदेशी व्हाट्सएप नंबर पर काल पर करें या चलेंगी गोलियां बुडो काई डू मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के खिलाड़ियों ने गोपाल मूर्ति फाउंडेशन और विश्वास फाउंडेशन के साथ मिलकर पौधे लगाएसी.एल.अग्रवाल डीएवी मॉडल स्कूल, सेक्टर 7 बी में वन महोत्सव सप्ताह और आम मेला मनाया गयागठिया रोग: कारण, उपचार और मनोवैज्ञानिक समर्थनहार के डर से फर्जी घोषणाएं करने में लगी है भाजपा: पं.अजय गौतमलगभग आधी सदी पुराने बाबा बालक नाथ मंदिर को गिराने का नोटिस आने पर भड़के भक्तमानवता की सेवा हेतु बाबा बिहारी नेत्रालय का शुभारंभ 7 जुलाई को
धर्म

निर्जला एकादशी का व्रत 18 जून को : आचार्य ईश्वर चन्द्र शास्त्री

June 16, 2024 10:59 AM

अब की बार गंगा दशहरा (16 जून ) के दिन हस्त नक्षत्र, सर्वार्थ सिद्धि योग, रवि योग, अमृत सिद्धि योग व वरियान् आदि श्रेष्ठ योग बन रहे हैं :  निर्जला एकादशी-व्रत के साथ-साथ दान की भी महिमा है

 चण्डीगढ़ : गंगा दशहरा त्यौहार इस वर्ष 16 जून को पड़ रहा है। इस दिन हस्त नक्षत्र, सर्वार्थ सिद्धि योग, रवि योग, अमृत सिद्धि योग व वरियान् आदि श्रेष्ठ योग बन रहे हैं। इसलिए इस पर्व का महत्व और भी बढ़ जाता है।

ये कहना है श्री खेड़ा शिव मंदिर, सेक्टर 28 डी के प्रधान पुजारी आचार्य ईश्वर चन्द्र शास्त्री का, जो श्री देवालय पूजक परिषद् चण्डीगढ़ के पूर्व प्रधान भी रहें हैं। उन्होंने बताया कि गंगाजी देव नदी हैं और यह जीवों के कल्याणार्थ इस पृथ्वी पर आई हैं। श्रीमद् भागवत महापुराण के अनुसार भगीरथ जी अपने पितरों की सद्गति के लिए गंगा जी को धरती पर लाए थे। गंगा जी का धरती पर अवतरण जेष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को हुआ। अतः यह तिथि गंगा दशहरा के नाम से प्रसिद्ध हुई। "दशमी शुक्लपक्षे तु, जेष्ठ मासे बुधेअहनि।
अवतीर्णा यत: स्वर्गात् , हस्तर्क्षे च सरिद्वरा ।।"
गंगा दशहरा के दिन गंगा-स्नान एवं गंगा पूजन का विशेष महत्व है। गंगा स्नान से पितर प्रसन्न होते हैं और उनका आशीर्वाद भी मिलता है। जो श्रद्धालु गंगा स्नान के लिए गंगा नदी पर नहीं जा सकते वे अपने घर में ही गंगा जी का आवाहन व ध्यान करके स्नान करें। 16 जून को गंगा दशहरा का पर्व मनाया जाएगा। 16 जून को प्रातः 2:32 बजे दशमी तिथि प्रारंभ हो जाएगी और सारा दिन दशमी तिथि रहेगी। अतः उदय तिथि के अनुसार 16 जून को ही गंगा दशहरा का पर्व मनाना उचित है।
विशेष संयोग....
अब की बार 16 जून को गंगा दशहरा के दिन हस्त नक्षत्र, सर्वार्थ सिद्धि योग, रवि योग, अमृत सिद्धि योग व वरियान् आदि श्रेष्ठ योग बन रहे हैं। इसलिए इस पर्व का महत्व और भी बढ़ जाता है।

निर्जला एकादशी

आचार्य ईश्वर चन्द्र शास्त्री ने ये भी जानकारी दी कि इस वर्ष निर्जला एकादशी का व्रत 18 जून को आ रहा है। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म में व्रत, पूजा, अनुष्ठान आदि का बहुत महत्व बताया गया है। व्रतों में भी एकादशी व्रत को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। एकादशी तिथि भगवान श्रीलक्ष्मीनारायण जी को समर्पित है।

एक वर्ष में 24 एकादशियां आती हैं, सभी का अपना-अपना महत्व है। परंतु जेष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। इसे निर्जला एकादशी कहते हैं। निर्जला का अर्थ है बिना जल के। अर्थात् इस व्रत में अन्न की तो बात ही क्या, जल का भी परित्याग करना होता है। इस व्रत में जल भी ग्रहण नहीं किया जाता। पांडु पुत्र भीमसेन ने इस एकादशी का व्रत बड़ी श्रद्धा के साथ किया था इसीलिए इसे भीमसेनी एकादशी भी कहा जाता है।

एक वर्ष में 24 एकादशियां आती हैं, सभी का अपना-अपना महत्व है। परंतु जेष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। इसे निर्जला एकादशी कहते हैं। निर्जला का अर्थ है बिना जल के। अर्थात् इस व्रत में अन्न की तो बात ही क्या, जल का भी परित्याग करना होता है। इस व्रत में जल भी ग्रहण नहीं किया जाता। पांडु पुत्र भीमसेन ने इस एकादशी का व्रत बड़ी श्रद्धा के साथ किया था इसीलिए इसे भीमसेनी एकादशी भी कहा जाता है।

निर्जला एकादशी के दिन भगवान श्री लक्ष्मी नारायण की पूजा करें "ओम् नमो भगवते वासुदेवाय" इस मंत्र का जाप करें। विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें। भगवान का सुमिरन व सत्संग करके अपना समय व्यतीत करें। अगले दिन द्वादशी को व्रत का पारण करें। इस प्रकार व्रत करने से साधक के अंदर सकारात्मकता आती है, भगवान प्रसन्न होते हैं और साधक के मनोरथ पूर्ण होते हैं। इस बार निर्जला एकादशी का व्रत 18 जून को किया जाएगा। "संपूर्णेकादशी यत्र, प्रभाते पुनरेव च।
सर्वैरेवोत्तरा कार्या, परतो द्वादशी यदि।।" 

इस शास्त्र निर्णय के अनुसार 18 जून को ही स्मार्त एवं वैष्णव दोनों को ही व्रत  करना चाहिए।  एकादशी के दिन दान का भी महत्व बताया गया है। निर्जला एकादशी-व्रत के साथ-साथ दान की भी महिमा है। इस दिन जल पूरित घाट दान करना चाहिए। फल, मिश्री, घी, बर्तन, पंखा आदि का दान करना भी श्रेष्ठ माना गया है। 

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें
अगर हम परमात्मा का नाम किसी भी बहाने से लेंगे तो हमारा कल्याण हो जाएगा : स्वामी राज दास जी महाराज हनुमान जन्मोत्सव पर श्री हनुमंत धाम में नवरत्नों से बने विशाल केक का भोग लगाया हनुमान जयंती को लेकर भगवान श्री हनुमान की भक्ति में डूबा सिटी ब्यूटीफुल चंडीगढ़ क्यों हम करें शक्ति आराधना श्री सांई पालकी शोभा यात्रा पहुंची चण्डीगढ़-पंचकूला में बाबा भक्तों के द्वार शिव रात्रि के यथार्थ अर्थ व परमात्मा शिव की सत्य पहचान के सन्देश से श्रद्धालुओं को अवगत कराया चंडीगढ़ के खेड़ा शिव मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह धूमधाम से मनाया गया किन्नर समाज ने राम लला मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा के मौके पर साईं मंदिर में बधाई गाई राम जी के रंग में रंगा स्मार्ट एयर प्यूरिफिकेशन टॉवर भी श्री राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा को लेकर भव्य कार्यक्रम का आयोजन